Recent Research Global Fabric Dyeing Machines Market 2020 Explored By Key Players | M/S Exolloys Engineering, Thies, Texfab

New York City, NY: December 25, 2019, Published via (Wired Release) According to the latest report by Market.us Research, The Global Fabric Dyeing Machines Market Report study is also collected on the basis of the latest and upcoming innovations, opportunities and trends. Fabric Dyeing Machines Market predicts that the overall demand growth will remain moderate all over the forecast period (2019 – 2029). The report also offers qualitative and quantitative investigation to deliver an entire and extensive analysis of the fabric dyeing machines market Competition, Insights market. It is a detailed report concentrating on primary and secondary drivers, market share, leading sections, and geographical analysis. It is a collection of analytical research based on past records, current, and forthcoming statistics and expected developments of the fabric dyeing machines market. The research on various sectors including opportunities, volume, growth, technology, demand, and trend of high leading players has been examined. The Aim of Fabric Dyeing Machines Market report is to present a complete assessment of the market and contains thoughtful insights, facts, actual data, industry-validated...

पुलिस ने किया फर्जी एजूकेशन बोर्ड का भंडाफोड़, 3 आरोपियों को किया गिरफ्तार

नई दिल्ली। फर्जी बोर्ड बनाकर लाखों छात्रों के भविष्य से खिलवाड़ करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ हुआ है। देर रात अपराध शाखा ने 3 लोगों को गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि ये तीनों उत्तरप्रदेश के रहने वाले हैं और इनके नाम बलरामपुर के अल्ताफ राजा, देवरिया के शंभुनाथ मिश्रा और मनोज कुमार के रूप में हुई है। खबरों के अनुसार मनोज देवरिया में एक स्कूल का संचालक है। पुलिस ने इन आरोपियों के पास से बड़ी मात्रा में फर्जी मार्कशीट, मार्कशीट कम सर्टिफिकेट, प्रोविजनल सर्टिफिकेट, माइग्रेशन सर्टिफिकेट, बोर्ड की उत्तर पुस्तिकाएं, प्रश्न पत्र और छात्रों का रिकॉर्ड बरामद किया है।  गौरतलब है कि यह फर्जी बोर्ड 10वीं और 12वीं की मार्कशीट और सर्टिफिकेट देने के अलावा देश के विभिन्न स्कूलों को मान्यता भी देता था। खबरों के अनुसार यह नकली बोर्ड छात्रों को 5 से 10 हजार रुपये में 10वीं और 12वीं पास कराने का झांसा देता था। गिरोह ने दिल्ली के विकासपुरी में अपना दफ्तर भी बना रखा था। पुलिस ने फर्जी ग्राहक भेजकर सौदा कराया और अल्ताफ राजा को रंगे हाथ दबोच लिया। यहां बता दें कि अल्ताफ से पूछताछ करने के बाद पुलिस ने देवरिया से शंभूनाथ और मनोज कुमार को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने बताया कि शंभूनाथ और मनोज ने अल्ताफ के बोर्ड से मान्यता ले रखी थी। अपने यहां आने वाले छात्रों को काफी कम समय में बोर्ड से मार्कशीट व सर्टिफिक...